रानीखेत से भवाली

इस मार्ग में सड़क के किनारे पेराफीट का कलर कॉम्बिनेशन ये अहसास कराते हैं कि – आप आर्मी एरिया में हैं. देवदार, बांज बलूत और चीड के वृक्षों से घिरा ये क्षेत्र है रानीखेत का।

रानीखेत जिसे – क्वीन’स मीडो (queen’s meadow) भी कहते हैं – उत्तराखंड में अल्मोड़ा जिले का एक बहुत ही खुबसूरत हिल स्टेशन और छावनी क्षेत्र है।

रानीखेत अपनी प्राकर्तिक खूबसूरती, यहाँ से दिखने वाले विशाल हिमालय श्रंखला, यहाँ के मंदिरों, यहाँ स्थित गोल्फ कोर्स, और खुबसूरत खेतों के लिए सभी का मन जीत लेता है।

सुंदर घाटियां, चीड़ और देवदार के ऊंचे-ऊंचे पेड़, शहरी कोलाहल तथा प्रदूषण से दूर अद्भुत सौंदर्य आकर्षण का केन्द्र है। यहाँ, निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम से भवाली, खैरना होते हुए लगभग 80 किलोमीटर की दुरी तय कर पंहुचा जा सकता है।

तो चल पड़िए आप भी इस रानीखेत से भवाली के सफ़र में हमारे साथ डूबते उबरते रहिये अपने अहसासों और यादों के समुन्दर में।

नमस्कार viwers आपका स्वागत है तहे दिल से, popcorn trip की … इस विडियो में हम बात करेंगे यहाँ के कुछ इतिहास, कुछ वर्तमान, कुछ भूगोल, कुछ facts, कुछ सामान्य जानकारी के बारे में और साथ ही जानेंगे और देखेंगे रानीखेत से भवाली तक पड़ने वालें कुछ पहाड़ी कस्बो को, और साथ ही आनंद लेंगे ढेर सारी प्राकर्तिक खूबसूरती का।

अल्मोड़ा/ मझखाली या द्वाराहाट से आते हुए रानीखेत बाजार से पहले आपको इस जगह से दो मार्ग दीखते हैं, राईट हैण्ड साइड वाला रानीखेत मुख्य बाजार से होते हुए और लेफ्ट हैण्ड साइड वाला मार्ग मॉल रोड छावनी छेत्र से होते हुए चिलियानौला के समीप आपस में मिल जातें हैं, हमने ट्रैफिक congesstion से बचने के लिए left हैण्ड वाला मार्ग जो माल रोड होते हुए जाता है वो मार्ग चुना।

छावनी होने से रानीखेत का ये इलाका काफी साफ़ सुथरा, शांत और व्यवस्थित है. स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के अनुसार रानीखेत दिल्ली और अल्मोड़ा छावनियों के बाद भारत की तीसरी सबसे स्वच्छ छावनी है।

ये यहाँ मॉल रोड स्थित पोस्ट ऑफिस, और military हॉस्पिटल. यहाँ की रिहायशी इलाका नीचे दाहिनी और की और मार्ग सदर बाजार और चिलियानौला के लिए है।

अपर माल रोड से जाने का चार्ज टैक्सी आदि के लिये १० रूपया और प्राइवेट वाहनों के लिये २० रूपया है अपर माल रोड से रानिखेत से यहाँ के दुरी 2.5 किलोमीटर और वाया चिल्यानौअला ६ किलोमीटर है
रानीखेत मॉल रोड स्थित छावनी छेत्र से आगे बढ़ ये मार्ग है रानीखेत – भवाली मोटर मार्ग
बायीं ओर पिलखोली स्थित घट घटेश्वरी मंदिर का प्रवेश द्वार
Ranikhet – se लगभग 11 किलोमीटर एक और चुंगी नाका, यहाँ पर हल्द्वानी से आने वाले वे वाहन जिन्हें मॉल रोड से होकर जाना है उन्हें छावनी परिसर में प्रवेश करने का शुल्क देना होता है . जो की वर्तमान में ३० रुपया है,

+++++++++++++++++++
रानीखेत का पिन कोड है – 263645
और STD कोड है 05966

sea लेवल से height – 6132 feet (1869 m) -Ranikhet
2,084 m (Nainital) & 1,642 m (Almora)

मनोरम पर्वतीय स्थल रानीखेत लगभग 25 वर्ग किलोमीटर में फैला है। कुमाऊं क्षेत्र में पड़ने वाले इस स्थान से लगभग 400 किलोमीटर लंबी हिमाच्छादित पर्वत-श्रृंखला का ज़्यादातर भाग दिखता हैं।
छावनी का यह शहर अपने पुराने मंदिरों के लिए मशहूर है।

कहा जाता है कि सैकड़ों वर्ष पहले कोई रानी अपनी यात्रा पर निकली हुई थीं। इस क्षेत्र से गुजरते समय वह यहां के प्राकृतिक सौंदर्य से मोहित होकर रात्रि-विश्राम के लिए रुकीं। बाद में उन्हें यह स्थान इतना अच्छा लगा कि उन्होंने यहीं पर अपना स्थायी निवास बना लिया। चूंकि तब इस स्थान पर छोटे-छोटे खेत थे, इसलिए इस स्थान का नाम ‘रानीखेत’ पड़ गया। दुनिया भर से हर साल लाखों की संख्या में सैलानी यहां मौज-मस्ती करने के लिए आते हैं।

क्योंकि रानीखेत कुमाऊं रेजिमेन्ट का मुख्यालय है, इसलिए यह पूरा क्षेत्र काफ़ी साफ-सुथरा रहता है। cant area होने के कारण यहाँ किसी भी प्रकार का निर्माण प्रतिबंधित है
रानीखेत – उपराडी – बजीना, बजोल, बम्स्युं, पातली, भुजान – खैरना

उपराडी में 4 व्हीलर्स को छावनी परिसद के लिए टोल टैक्स देना होता है,
साफ़ मौसम, गुनगुनी धुप के साथ हलकी सर्द हवाएं मौसम को सुहावना बना रही है
ये न ख़तम होने वाले रस्ते, रास्तो में कहते मुसाफिर, कौन कमबख्त चाहता है ये सफ़र ख़तम हो… इन रास्तो में चलते आपके साथ पेड़, नदी और ये पहाड़ियां… इसीलिए उत्तराखंड टूरिज्म के baseline है Simply Heaven
हाँ पर एस हेवन में यहाँ होना सिम्पल नहीं है ये amazing और अतुलनीय भी है
रानीखेत से खेरना 29 किलोमीटर

रानीखेत के आस पास के आकर्सन – हैडाखान आश्रम, चौबटिया apple गार्डन, दूनागिरी मंदिर, गोल्फ कोर्स, माल रोड, सोहनी बिनसर आदि हैं
और यहाँ के अधिकतर निर्माण अंग्रेजों के समय के हैं’. यहाँ कुछ वर्ष पूर्व रानी lake का निर्माण कराया गया,
रानीखेत शहर से अल्मोड़ा मार्ग में लगभग 5 किलोमीटर की दुरी पर चीड़ के घने जंगल के बीच विश्व प्रसिद्ध गोल्फ मैदान है। उसके पास ही कलिका में कालीदेवी का प्रसिद्ध मंदिर भी है। मजखाली, चौबटिया (10 km), चिलियानौला (6 किलोमीटर) स्थित हेडाखान बाबा का भव्य मंदिर खासतौर से देखने लायक है। खडी बजार, आशियाना पार्क जो की जंगल थीम पर बना आकर्सन का केंद्र है , आर्टिफीसियल रानी झील यहाँ के कुछ प्रमुख , आकर्सन है, बिनसर महादेव – भगवन शिव को समर्पित मंदिर बिनसर महादेव भी यहाँ से कुछ दुरी पर ताडीखेत होते हुए स्थित है।

रानीखेत देश से सभी प्रमुख स्थानों से सड़क मार्ग द्वारा कनेक्टेड है कुछ प्रमुख स्थानों जैसे दिल्ली, देहरादून, चंडीगढ़, आदि से दुरी आप स्क्रीन में देख सकते हैं
नजदीकी रैलवे स्टेशन काठगोदाम ८० किलोमीटर, हवाई अड्डा पंतनगर १३५ किलोमीटर पंतनगर में है. रानीखेत की दूरी नैनीताल से 63 किमी, अल्मोड़ा से 50 किमी, कौसानी से 85 किमी और काठगोदाम से 80 किमी हैं।

रानीखेत सदर बाजार,
रानीखेत के प्राकर्तिक सुन्दरता किसी का भी मन मोह लेती है

रानीखेत से भवाली मार्ग को कुमाओं के बेहतरीन मार्गो में कहा जाए तो अतिशयोक्ति नहीं होगी, मार्ग के एकंऔर पहाड़ी और दूसरी और ढलान, कभी कभी दिखती नदी, बीच में पड़ते छोटे छोटे गांव जहाँ स्ठित दुकाने, घर और आबादी आपका मन बरबस अपनी और आकर्षित कर लेती हैं,
अगर आप खुद राइड या ड्राइव कर रहें हो तो आपके लिए ये सुझाव है कि अपने वाहन की गति धीमी और नियंत्रित सीमा में ही रखे, क्युकी इन साफ़ हवाओं में साँसे लेना का मौका आपको बार बार नहीं मिलेगा, और ना ही मिलेगा इतना मनलुभावन दृश्यों से परिपूर्ण मार्ग
यहाँ इस मार्ग में आपको कई जगह कुछ दुरी के अन्तराल टी & स्नैक्स और meal के लिए दुकाने मिलती रहती हैं… पहाड़ी मार्गो के बात हे अपने में निराली है, यहाँ का साफ़ वातावरण और ताजगी लिए हवाओं की खुशबू के सामने इत्र की खुसबू कहीं नहीं ठहरती.
ये घुमावदार मोड जिंदगी का अहसास कराते हुए , जहाँ आपको पता नहीं होता अगले पल क्या मिलेगा ऐसे ही इन मोड़ो से गुजरते वक़्त आपको पता नहीं होता की आपको क्या दिखेगा,
एक शायर की मशहूर चंद पंक्तियाँ भी हैं
सफ़र आसान रखना हो तो सामान कम रखिये
जिंदगी आसां रखनी हो तो अरमान कम रखिये

इन रास्तो में आपको हिंदी सिनेमा के कई नए पुराने गीत याद आयेंगे
जैसे युही कट जायेगा सफ़र साथ चलने से, कि मंजिल आएगी नजर साथ चलने से

युही चला चल राही, यु ही चला चल

आगे दिख रहे बोर्ड के मुताबिक हल्द्वानी की दुरी है ७२ किलोमीटर, काठगोदाम 67, नैनीताल 45 और भीमताल है ४२ किलोमीटर की दुरी पर GOPR3301

और फिर से साफ़ सुथरी सड़क, सड़क के किनारे खड़े वाहनों से पता लग रहा है कि यहाँ पर भी कोई restaurnat होगा

अगर आपने कार/ बाइक रेसिंग गेमिंग कभी खेला या देखा हो तो ये सामने दिख रही सड़क, सड़क के किनारे लगे parafit और पहाड़िया आपको किसी रेसिंग गेम का ध्यान दिलाते हैं.

देखने को बहुत कुछ मिलेगा सड़क से चलते हुए कभी सड़क के किनारे दुकान, कभी कोई रिहायशी घर तो कभी ऐसा घर जहाँ लोग नहीं रहते बस उनकी यादें रहती हैं, वो चले गए किसी बेहतर जिंदगी की तलाश में या फिर छोड़ गए अपना आसियान किसी मज़बूरी के कारण वो एक कुछ और चंद पंक्तियाँ याद आ गयी
कोई युहीं क्यों बेवफा हुआ होगा,
कुछ तो बुरा उसे भी लगा होगा

खैर सफ़र है जिंदगी, चलती रहती है, ठहरती कहाँ है, मंजिल में hmmm
मंजिल भी तो बदलते रहती है, ठहराव को अच्छा नहीं समझा जाता

यहाँ पर का दिख रहा दृश्य अल्मोड़ा – खैरना मार्ग के दृश्य से मिलता जुलता है, वैसी ही घुमावदार सड़क, दाहिनी हाथ को नदी और पहाड़ी

कैंची धाम यहाँ से 27 किलोमीटर की दुरी पर रह गया है, खैरना ७ किलोमीटर और भुजान २ किलोमीटर
पहाड़ों में आपको इस तरह से ४ – ५ ट्रक से ज्यादा ट्रक खड़े दिखाई दे तो समाझ जाईयेगा की वहां आस पास कही जल श्रोत होगा, अक्सर ट्रक ड्राइवर्स अपने ट्रक की साफ़ सफाई हेतु ट्रक रात्रि को ऐसे स्थान में खड़ा करते हैं. और ट्रक खड़े होंगे तो संभवतया आस पास कोई ढाबा भी होगा ही

और भुजान ही वह जगह है जहाँ से बेतालघाट को मार्ग जाता है, जिसकी दुरी यहाँ से — किलोमीटर है

ये सामने सड़क जो बेतालघाट को,

अब खैरना पुल से हम गुजर रहे हैं, यहाँ से लेफ्ट हैण्ड को मार्ग अल्मोड़ा के लिए, राईट हैण्ड को मार्ग हल्द्वानी व नैनीताल के लिए… और यहाँ से खैरना भी शुरू हो जाता है… यहाँ भी काफी बड़ी बाजार है, जहाँ लगभग हर तरह का जरुरी सामान मिल जाता है
यहाँ भी एक पेट्रोल पंप मौजूद है
और खैरना से ही लगा हुआ गरम पानी बाजार, यहाँ लेफ्ट हैण्ड साइड को हनुमान जी के मंदिर से लगा हुआ एक प्राकर्तिक जल श्रोत है, जिससे वर्ष भर चौबीसों घंटे पीने का पानी बहता रहता है

और गरम पानी से कुछ ६ सात किलोमीटर की दुरी पर स्थित रातिघाट, यहाँ पर भी छोटी सी बाजार है

अब ये रातिघट से १० किलोमीटर बाद है कैची धाम, स्क्रीन में दिख रहे suggestion link और नीचे डिस्क्रिप्शन में दिए लिंक द्वारा कैंची मंदिर का दर्शन कर सकते हैं, इस मंदिर से जुडी जानकारी देते रोचक विडियो का लिंक आपको स्क्रीन के उप्परी हिस्से और नीचे discriptoin में मिल जाएगा.

यहाँ से विश्व प्रसिद्द कैंची धाम की दुरी लगभग 20 किलोमीटर, जहाँ विस्व्प्रसिद्द मेला व भंडारा बाबा नीब करौरी जी की याद में प्रतिवर्ष १५ जून को मनाया जाता है
कैंची धाम से लगभग ७ किलोमीटर की दुरी पर है आज के सफ़र की मंजिल भवाली, और भवाली से कुछ पहले ये स्थान है निगलाट

भवाली के सीमा शुरू हो चुकी है, ये राईट हैण्ड साइड को पेट्रोल पंप, और यहाँ की बाजार,
रोडवेज बस डिपो है दाहिनी हाथ की दिशा में, जहाँ से आपको हल्द्वानी, या नैनीताल जाने के लिए बसेस आदि मिल जाएँगी.
और ये भवाली तिराहा जहाँ से राईट हैण्ड साइड का मार्ग नैनीताल को जाता है और वाया ज्योलीकोट होते हुए आप हल्द्वानी काठगोदाम इस मार्ग से भी जा सकते हैं और
और आपने भीमताल, सातताल, नौकुचियाताल, घोडाखाल, मुक्तेश्वर, रामगढ आदि जाना हो तो लेफ्ट हैण्ड का मार्ग आपको choose करना होगा .. जिससे हम आगे बढ़ रहे हैं.
करीब डेढ़ दो सौ मीटर आगे से फिर एक तिराहा आएगा, जहाँ से लेफ्ट का मार्ग रामगढ, मुक्तेश्वर, धानाचूली आदि के लिए जाता है… और आप रामगढ से और आगे बढेंगे तो ये मार्ग भी क्वारब में मिलेगा जहां से भी आप अल्मोड़ा, कौसानी, बिनसर आदि को जा सकते हैं
और सीधे करीब १०० मीटर आगे बढ़ के ये U turn जहाँ से सीधा मार्ग घोडाखाल को और U Turn लेता हुआ मार्ग भीमताल, सातताल, नौकुचियाताल, काठगोदाम, हल्द्वानी को जाता है

राजेश खन्ना अभिनीत किशोर कुमार द्वारा गया एक और गाना है
जिंदगी के सफ़र में गुजर जाते हैं जो मुकाम वो फिर नहीं आते, फिर नहीं आते
तो जिंदगी का तो पता नहीं पर जब भी आपका दिल करे अपनी जिंदगी के मुकामों में वापस आने का तो आप इस चैनल में हमारे द्वारा बनाये गए अलग अलग स्थानों से जुड़े जानकारी देते वीडियोस देख के अपनी बीती यादों में जा सकते हैं

अपना और अपने आस पास के लोगो का ख्याल रखें
फिर मुलाकात होगी किसी और सफ़र में या किसी और जगह की जानकारी देते विडियो में, इसी उम्मीद के साथ आपसे विदा,

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *