Chitai Golu Dev Temple Almora

Please Subscribe our You Tube channel


उत्तराखंड के अल्मोड़ा जीले में स्थित धार्मिक आस्था के केंद्र चितई मंदिर का निर्माण १७ सताब्दी में चंद शासन काल में हुआ था, मंदिर के अंदर घोड़े पे सवार, धनुष बाण लिए गोलू देवता की मूर्ति स्थापित है, गोलू देवता न्याय देवता के रूप में जाने जाते हैं, यहाँ जो श्रद्धालु सच्चे मन से पूर्ण श्रद्धा से और पवित्र ह्रदय से कामना करते हैं तो वो अवस्य पूर्ण होती है |

चारो और चीड के वृक्षों से घिरा हुआ, खुले आसमान के नीचे मंदिर का वातावरण मन को अत्यंत शान्ति प्रदान करता है… यहाँ चारो और आपको श्रधालुवों द्वारा भेट की गयी घंटियों, चिट्ठियों, अर्जियों और चुनरियों को देख, आपको इस मंदिर के प्रति जनमानस में गहरी आस्था का पता लग जाता हैं |

Haldwani to Garjia Temple

Please Subscribe our You Tube channel


हल्द्वानी से कालाढूंगी, कॉर्बेट म्यूजियम, कॉर्बेट वाटर फॉल, बैलपडाव, रामनगर होते हुए गर्जिया मंदिर के खुबसूरत सफ़र के बारे में विस्तृत जानकारी देता विडियो।

Lorem ipsum dolor sit amet, consectetuer adipiscing elit. Aenean commodo ligula eget dolor. Aenean massa. Cum sociis natoque penatibus et magnis dis parturient montes, nascetur ridiculus mus. Donec quam felis, ultricies nec, pellentesque eu, pretium quis, sem.

  1. Nulla consequat massa quis enim.
  2. Donec pede justo, fringilla vel, aliquet nec, vulputate eget, arcu.
  3. In enim justo, rhoncus ut, imperdiet a, venenatis vitae, justo.

Nullam dictum felis eu pede mollis pretium. Integer tincidunt. Cras dapibus. Vivamus elementum semper nisi. Aenean vulputate eleifend tellus. Aenean leo ligula, porttitor eu, consequat vitae, eleifend ac, enim. Aliquam lorem ante, dapibus in, viverra quis, feugiat a, tellus.

Phasellus viverra nulla ut metus varius laoreet. Quisque rutrum. Aenean imperdiet. Etiam ultricies nisi vel augue. Curabitur ullamcorper ultricies nisi. Nam eget dui. Etiam rhoncus. Maecenas tempus, tellus eget condimentum rhoncus, sem quam semper libero, sit amet adipiscing sem neque sed ipsum. Nam quam nunc, blandit vel, luctus pulvinar, hendrerit id, lorem. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus. Donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus.

Nullam quis ante. Etiam sit amet orci eget eros faucibus tincidunt. Duis leo. Sed fringilla mauris sit amet nibh. Donec sodales sagittis magna. Sed consequat, leo eget bibendum sodales, augue velit cursus nunc, quis gravida magna mi a libero. Fusce vulputate eleifend sapien.

Vestibulum purus quam, scelerisque ut, mollis sed, nonummy id, metus. Nullam accumsan lorem in du.

Mukteshwar, Nainital

Please Subscribe our You Tube channel


मुक्तेश्वर एक छोटा सा साफ़ सुथरा और शांत पहाड़ी गाँव है, जहाँ आपको असीम शांति, वन क्षेत्र, किसी भी अन्य हिमालयी छेत्र की तरह ही सीधे व सरल ग्रामीण, और शुद्ध हवा और असीम मानसिक शांति मिलती है, यहाँ से दिखने वाले हिमालय श्रंखला के बेजोड़ दृश्य, अपने शांत माहौल और शीत मौसम व स्वच्छ वातावरण, बाज और देवदार के घने जंगल और यहाँ चौली की जाली नामक स्थान से दिखने वाले असीम व अद्भुत घाटी के दृश्य और मुक्तेश्वर महादेव मंदिर से श्रद्धालुओं को मिलती असीम उर्जा के लिए ट्रैकिंग, रीडिंग, व्रित्तिंग, बर्ड वाचिंग, आदि, यहाँ पर्यटकों द्वारा की जाने वाली कुछ एक्टिविटीज है.

मुक्तेश्वर पहुचने के मार्ग में दिखने वाले दृश्य भी काफी खुबसूरत और लुभावने हैं. सफ़र करते हुए दिखने वाले आकर्षक दृश्यों की सुन्दरता आपका दिल जीत लेती है. मुक्तेश्वर नाम दो संस्कृत शब्द से निकला है “मुक्ति और ईश्वर” । यानी यहाँ आप सांसारिक आपाधापी से दूर मुक्त हो स्वयं को इश्वर के करीब पाते हैं.

मुक्तेश्वर देवदार, बांज, काफल, मेहल आदि के सुंदर और घने आरक्षित वनों से घिरा है। यहाँ IVRI इंडियन वेतेर्निटी रिसर्च इंस्टिट्यूट भी है, जहाँ जानवरों पैर रिसर्च (खोज) की जाती है ये इंस्टिट्यूट 1893 में अंग्रेजों द्वारा यहाँ बनवाया गया था यहाँ एक म्यूजियम और लाइब्रेरी भी है जहाँ जानवरों पर रिसर्च से पुराने डॉक्यूमेंट और किताबें संभाली गयी हैं

मुक्तेश्वर धाम एक प्राचीन शिवमंदिर है, जिसके नाम पर ही इस इलाके को मुक्तेश्वर कहा जाता है। यहाँ से हिमालय और हरियाली भरी घाटियों का दृश्य बहुत खूबसूरत दिखाई पड़ता है।

मुक्तेश्वर बाजार से जो हालाकिं ज्यादा बड़ी नहीं है, से महज २ किलोमीटर की दुरी पर मुक्तेश्वर महादेव का मंदिर स्थित है, जो सडक से लगभग 400 – ५०० मीटर के दुरी जिसमें आपको कुछ सीडियां भी चढ़नी होती है, के बाद ये मंदिर स्थित है।

Almora Trip from Karbala to Dharanaula

Dharanaula is an important part of Almora Almora city. Tour form Karbala to Dharanaula Bus Station. At Dharanaula there is Jila panchayat Bhawan, where many of the offices unit are such as Indane Gas office, Irrigation dept., Jila Panchayat Bhawan, Jila Samaj and Pariwar Kalyan Vibhag, Vidhyut Vibhag etc.

 

Ma Barahi Devi Mandir, Devidhura

Please Subscribe our You Tube channel


देखे देवी धुरा मंदिर उत्तराखंड में कहाँ है, और जाने यहाँ प्रतिवर्ष रक्षा बंधन को होने वाले पत्थर युद्ध के पीछे की वजह। इसे माँ बारही देवी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ प्रति वर्ष बहनें अपने भाइयों को पत्थरों से सुसज्जित कर युद्ध में भाग लेने के लिए भेजती हैं।
Devi Dhura jaha maa barahi devi ka mandir hai aur jo famous hai prativarsh raksha bandhan ko aayojit hone waale pathhar maar maile ke liye. Janiye isi ka eetihas, aur any jaankariyan.
#DeviDhura #MaaBarahiTemple #PattharMarMela

Almora to Kausani Travelog

Please Subscribe our You Tube channel


Almora is the district headquarter and Kausani is known as Switzerland of India. Come, see and enjoy the beauty and peace of Nature. Almora and Kausani both are beautiful hill stations and gems of Uttarakhand. Kausani is about 52 kms far from Almora. There is beautiful and pleasant road between these two divine places.

Almora shahar se khubsurat hill station kausani ke duri hai takriban 52 kilometer, aur lagne waala samay hai lagbhag 2 hours. almoda se kuasni ke madhya aane waale sthano mei mukhya hai kosi, devsthal, manaan, ranman, someshwar aadi.

Kosi se labhag 1 kilometer aage badne kee baad ye left hand ko road hai ranikhet aur dwarahat ke lie, ranikhet kee duri hai yahan se 33km aur dwarahat hai lagbhag 66 kilometer kee duri per, jaisa kee humne board mei parha. hum right hand side ka route leke bad rahe hai Kausni marg per jo hai yahan se lagbhag 34 kilometer. kosi se lagbhag 3 km aage sthit prasiddh shiv mandir devsthal sadak se neeche kee or hai, shivratri ko yahan bhandara aur mela lagta hai, jisme kaafi dur dur se shradhhalu yahan aate hain.

Pahado mei sididaar khet kis tarah k hote hai, yahan aap dekh sakte hain, sadak ke saath saath nadi bahti hai, jo haalaki jayada badi nahi hai, aas paas ke pahadiyon se paani bahkar es nadi mei jagah jagha par milta hai.

Almora se kausani ke safar ki ek khasiyat ye bhi hai ki,, thodi thodi duri par choti choti bajaren dikhti hai jisse apko bilkul b boriyat nhi hoti.. Chahe ap khud drive kr rhe ho ya passenger ho…

Someshwar, yahan bhi kaafi ghani bajar aur aabadi hai, jo Almora se laghbhag 40 kilometer ki duri per hai, yahas se agle chaurahe se bayi haath ko binta/ dwarahat aur ranikhet ko marg jaata hai. Someshwar mei 2 petrol pump hai. yahas se kausani ke duri lagbhag 12 kilometer hai.

Kausani Devi Mandir mai april ke mahine ki navratiri mai bhandara hota hai. jahan Kal Bhairav, Durga mata, aur kaali Devi aur Hanuman jee ke pratimaayen hai. Sadak mei chalte wahan yahan ruk ke ashirwad jarur grahan karte hai.
yaha march april navratiri mai bhandara hota hai. jahan Kal Bhairav, Durga mata, aur kaali Devi aur HAnuman jee ke pratimaayen hai.

Dayara Bugyal, Garhwal, Uttarakhand

Please Subscribe our You Tube channel


दयारा बुग्याल उत्तरकाशी में समुद्री तल 3048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। दस हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित दयारा बुग्याल को उत्तराखंड सरकार ने ट्रैक ऑफ द ईयर-2015 घोषित किया है. इन बुग्यालों तक पहुंचने के लिए आप देश के किसी भी कोने से बस या रेल से ऋषिकेश या कोटद्वार पहुंच सकते हैं। ऋषिकेश और कोटद्वार पहुंचकर आप बस या टैक्सी से चमोली, टिहरी और उत्तरकाशी पहुंच सकते हैं।





यहाँ से नजदीकी एअरपोर्ट जॉली ग्रांट, देहरादून 195 किलोमीटर और नजदीकी रेलवे स्टेशन ऋषिकेश से 180 किलोमीटर, अगर आप अपना सफ़र Delhi से तय कर रहे है तो आपको 290 km की दुरी तय करनी होगी aur delhi se aana ho to delhi – roorkee – rishikesh – narendra nagar – chamba – new tehri – Dharashu – Uttarkashi – Bhatwari – barsu aur barsu se 8 km ka trek kar ke Dayara pahucha jaa sakta hai.

Haidakhan Ashram

Please Subscribe our You Tube channel


The Haidakhan Babaji ashram was established by Shri Shri 1008 Haidakhan wale baba in the year between 1970 and 1984. There are more than 100 rooms available here for the accomodation of the devotees who visit the ashram, and the members of haidakhan samaj live here and provide room to the devotees of babaji at very nominal charges and more than 100 rooms are going to be constructed soon.

The river gaumati Ganga flows in between the two sites of the Ashram. There is huge hall in the ashram , Devotees of Babaji gather here for meditation.This is the cculpture of Shid brahmchari maharaj.

The ashram cover a quite huge area and divided into 3 levels the main ashram, fakirabad, and the gufa side. Babaji built nine temples (nav durga) on the bank of the River Gautami Ganga.

Every year on 25th of December a huge fair takes place in Haidakhan ashram devotees from 50 55 countries be the part of the fair There are various spiritual centers and ashrams dedicated to Haidakhan wale Babaji have been established in all over the World. Haidakhan Ashram is located in India as well as beyond India(Internationally). In India, Haidakhan Vishwa Mahadham (Village Haidakhan, District Nainital), Ananda Puri Ashram, Chilianaula (Ranikhet), India, Manda Ashram (it’s about 23kms away from Vapi), Haidakhandi Samaj (Yaday Bhawan, Malla Gorakhpur Haldwani).

Internationally the Ashrams are located in Germany(Bhole Baba Ashram, Rieferath , GERMANY), USA( Haidakhandi Universal Ashram ), Italy (Fondazione Bhole Baba in Cisternino (BR), Switzerland ( Brien), the Netherlands (Loenen Ashram Sada Shiva Dham).





The Centres of Haidakhan are located in various places of India including Assam, Ahmedabad, Dariapur, Kayavaroham, Kota, Lobhan, Manda, Mandiri, Mathura, Murar, New Delhi, Almora, Vrindavan.

During the time of Babaji, Haidakhan Samaj got developed, the main purpose behind developing the Samaj was to spread the message of Babaji in the world. There are many festivals celebrated in the ashram by the members of the Ashram and the members of Haidakhan Samaj. Haidakhan Samaj also works for the welfare of the society. There are two main ashrams of Haidakhan Babaji manages by Haidakhan Samaj these are Haidakhan Vishwa Mahadham at Haidakhan village and Anandpuri Ashram at chiliyanaula, Ranikhet. The Haidakhan Samaj serves the poor and the sick people by providing health and medical facilities in both the ashrams .

There are also 5 guest houses and the Bhakti Bhandar Shop, the main temple, the Italian temple and Sri Babaji‘s Kutir (room) and the Sri Baba Research Hospital where both Ashram visitors and local people are treated.
Babaji left his body on 14 February 1984. He gave the message that we can win the heart of the people by truth, simplicity, and love.

You can get details of altitude or contact details of Ashram on given link (http://www.nainitalonline.com/about-haidakhan/) as shown on screen or you can get the link on description below.

Also we are providing the link of our pervious video in which you will get the route of Haidakhan ashram from haldwani and the brief history of haidakhan ashram





India :
Haidakhan : Haidakhan Vishwa Mahadham (Village Haidakhan, District Nainital) WEBSITE : www.haidakhandisamaj.org
Ranikhet : Ananda Puri Ashram, Chilianaula (Ranikhet), India www.haidakhandisamaj.org, http://www.anandpuri.com/Welcome.html
Manda Ashram (about 23 km from vaapi )
Malla Gorakhpur Haldwani: HAIDAKHANDI SAMAJ: Website : Haidakhandisamaj.org
International
U.S.A : HAIDAKHANDI UNIVERSAL ASHRAM: WEBSITE : www.babajiashram.org
THE NETHERLANDS : LOENEN ASHRAM SADA SHIVA DHAM : WEBSITE : www.babaji.nl
SWITZERLAND : BRIENZ : WEBSITE : www.babajiashram.de
ITALY: Fondazione Bhole Baba in Cisternino (BR): WEBSITE : www.bholebaba.org, www.samajitaliano.org
GERMANY: Bhole Baba Ashram, Rieferath (GERMANY) : WEBSITE : www.babajiashram.de

Almora City Tour

Please Subscribe our You Tube channel


व्यस्त दिनचर्या और थकान भरी जीवनशैली के आप used to (अभ्यस्त) हो गये हों, पर कभी आपको लगे, कि आपने, अपने और अपनों के साथ, अच्छा वक़्त बिताना है, तो almora जो की समुद्र तल से लगभग 6,106 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, आपके लिए एक उपयुक्त स्थान हो सकता है। ये नगर जहाँ एक और ऐतिहासिक महत्व का है, वही सांस्कृतिक, अध्यात्मिक स्थल होने के साथ साथ एक जाना माना पर्यटक स्थल भी है।
आईये रूबरू होते है इस शहर से, बने रहिये इस सफ़र में मेरे साथ, hello फ्रेंड्स मै स्नेहा, आपका स्वागत है अल्मोड़ा नगर के इस टूर में…।
इस जगह से राईट हैण्ड साइड को डोली डाना गोल्जू मंदिर है जो डेढ़ से दो किलोमीटर की soft​ ट्रैकिंग के बाद आता है। ​




अल्मोड़ा, 16 वीं शताब्दी में कुमाऊं साम्राज्य पर शासन करने वाले चंदवंशीय राजाओं की राजधानी थी। एक कथा के अनुसार यह कहा जाता है कि कौशिका देवी ने शुंभ और निशुंभ नामक दानवों को इसी क्षेत्र में मारा था।

head पोस्ट ऑफिस, रैमजे इंटर कॉलेज, एडम्स गर्ल्स inter कॉलेज, GIC आदि कुछ ब्रिटिश कालीन इमारतों में से एक हैं
चितई, नंदा देवी मंदिर, रघुनाथ मंदिर, हनुमान मंदिर, मुरली मनोहर मंदिर, भैरब मंदिर, पाताल देवी, कसारदेवी, उल्का देवी, बानरी देवी, बेतालेश्वर, स्याही देवी , जागेश्वर, डोलीडाना आस्था के केन्द्र इस शहर की धरोहर हैं




​​अल्मोड़ा में, आवागमन के लिए, kmou, roadways की बसें aur taxi asani se uplabdh ho jati hai हैं । जनपद का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम, यहाँ से लगभग 90० किमी० की दूरी पर, एवं निकटतम एअरपोर्ट पंतनगर लगभग 125 किमी० की दूरी पर स्थित है. Almora se kuch prmukh sehro ki duri ap screen mai dekh skte hai

अल्मोड़ा कुमाऊ का एक प्रमुख शहर है जहाँ से कुमाओं और गडवाल के प्रमुख जगहों के लिए मार्ग जाता है जैसे नैनीताल, हल्द्वानी, पिथोरागढ़, बागेश्वर, द्वाराहाट, रानीखेत, कौसानी, जागेश्वर, कर्णप्रयाग, चमोली, आदि को, स्क्रीन में आपको इन स्थानों की अल्मोड़ा से दुरी का चार्ट दिख रहा है

इतिहासकारों की मान्यता है कि, सन् 1563 ई. में चंदवंश के राजा बालो कल्याणचंद ने आलमनगर के नाम से इस नगर को बसाया था। चंदवंश की पहले राजधानी चम्पावत थी। कल्याणचंद ने इस स्थान के महत्व को भली-भाँति समझा। तभी उन्होंने चम्पावत से बदलकर इस आलमनगर (अल्मोड़ा) को अपनी राजधानी बनाया।

सन् 1563 से लेकर 1790 ई. तक अल्मोड़ा का धार्मिक भौगोलिक और ऐतिहासिक महत्व कई दिशाओं में अग्रणी रहा। इसी बीच कई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक एवं राजनैतिक घटनाएँ भी घटीं। साहित्यिक एवं सांस्कृतिक दृष्टियों से भी अल्मोड़ा समस्त कुमाऊँ अंचल का प्रतिनिधित्व करता रहा।
सन् १७९० ई. से गोरखाओं का आक्रमण कुमाऊँ अंचल में होने लगा था। गोरखाओं ने कुमाऊँ तथा गढ़वाल पर आक्रमण ही नहीं किया बल्कि अपना राज्य भी स्थापित किया। सन् 1896 ई. में अंग्रेजो की मदद से गोरखा पराजित हुए और इस क्षेत्र में अंग्रेजों का राज्य स्थापित हो गया।
स्वतंत्रता की लड़ाई में भी अल्मोड़ा के विशेष योगदान रहा है। शिक्षा, कला एवं संस्कृति के उत्थान में अल्मोड़ा का विशेष हाथ रहा है।
कुमाऊँनी संस्कृति की असली छाप अल्मोड़ा में ही मिलती है – अत: कुमाऊँ के सभी नगरों में अल्मोड़ा ही सभी दृष्टियों से बड़ा है।




जनपद की मुख्य नदियों में रामगंगा, कोसी तथा सुयाल नदियां हैं । जनपद के प्रमुख कृषि उत्पाद चावल, गेहूं, ज्वार, बाजरा, चाय, सेब, आड़ू, खुबानी, पूलम हैं। तथा मयूर, ग्रे बटेर, काला तीतर, चिड़िया, चकोर, मोनाल तीतर, बाघ, चीतल, तेंदुआ, लोमड़ी, गोराल, हिम तेंदुआ, काले भालू जनपद में पायी जाने वाली जीव जन्तुओं की मुख्य प्रजातियां हैं। जनपद का मौसम सर्दियों में ठण्डा तथा गर्मियों में सुहावना रहता है। ऊंचाई वाले स्थानों में सर्दियों में जमकर हिमपात होता है।। जुलाई से सितंबर तक जनपद में भारी वर्षा होती है ।
अब ये बायीं और दींन दयाल उपाध्याय पार्क…

Haldwani to Haidakhan Documentary

Please Subscribe our You Tube channel


Haidakhan is the famous Ashram for Meditation, surounded by forest area. Here anyone can meditate and do yoga, reading, day hiking and find himself. Here we bring the short documentary about Haidakhan Ashram.
#Haidakhan #Spirituality #Dhyaan #Nature
***
Contacts –
Haidakhan Vishwa Mahadham
P.O. Hairakhan
Dist. Nainital
PIN 263126

Ashram Email connection:
[email protected]
more info also here:
www.haidakhandisamaj.org
www.babajicalling.com
www.babaji.net