गंगोत्रि धाम का, हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण स्थान है, मंदिर के समीप…गौमुख से ही.. गंगा नदी का udgam होता है अगर आपने… उत्तर भारत के, चारोंधामों ki yatra, एक साथ karni ho to ऐसी मान्यता hai… कि सबसे पहले यमुनोत्री धाम के दर्शन किये जाते हैं…, और उसके बाद का क्रम है गंगोत्री… बद्रीनाथ… और फिर केदारनाथ…. धर्मग्रंथों में कहा गया है, कि जो यहां का दर्शन करने में सफल होते हैं उनका न केवल इस जनम का पाप धुल जाता है वरन वे जीवन-मरण के बंधन से भी मुक्‍त हो जाते हैं। इन धामों में से यमुनोत्री के liye लगभग 7 किलोमीटर का, केदरनाथ के लिए 20 किलोमीटर का trek hai jabki बद्रीनाथ और गंगोत्री धाम sadak ke pass hi isthit hai.

गोमुख – जहां से गंगा नदी का उद्गम होता है, गोमुख गंगोत्री से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर है। गोमुख तक पहुंचने का रास्ता बेहद कठिन और दुर्गम है.गंगोत्री एक ग्लेशियर है और गोमुख, इसी का एक हिस्‍सा है. जहां से बर्फ पिघलकर गंगा बनने के लिए आगे बढ़ती है. ये एक उच्च हिमालयी छेत्र है, जहाँ ऑक्सीजन की कमी रहती है, साथ ही गोमुख जाने का मार्ग भी कही कही par काफी संकरा और जोखिम भरा है, एक तरफ पत्थर और मलवे के पहाड़, और दूसरी और नदी, इस तरह ke ट्रेक करने से पहले, आपको apne sarir ko iske lie anukul krna होता है
यह ग्‍लेशियर चारो तरफ से हिमालय पर्वत श्रृंखलाओं जैसे – शिवलिंग, थलय सागर, मेरू और भागीरथी तृतीय की बर्फीली चोटियों से घिरा हुआ है।